कविता

कविता
---------------------------------------------------------
दुनिया के बाजार में चंदन नहीं बेचा करती हूँ
दीप से तुलसी वदनं किया करती हूँ
तन की ओट में मन का व्यापार नहीं करती हूँ
संबंधों को मन से जीया करती हूँ
आँचल, रौली, मौली का खेल नहीं करती हूँ
पूजा- अर्चना से नमन किया करती हूँ
नारी की अस्मिता का मान किया करती हूँ
अश्रु को पौंछ जीवन जीया करती हूँ
नदियों की धारा अविकल बहा करती हूँ
पत्थरों से निकल आगे राह लिया करती हूँ
"अरु" सहज नहीं जीवन जीना अरण्य सा
रमन , भ्रमण कर गीत नये जीया करती हूँ
आरधना राय "अरु"

Comments

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

बता तूने क्या पाया मन