कलम ----------------------





गूगल के चित्र सौजन्य से

काश परमात्मा तुम बना देते कलम
सत्य लिखना सत्य कहना  होता धर्म
चलती सदा घार सी सरस्वती कलम
काश, भगवान मुझे तू बना देता कलम
लिखती जगत की रीत की प्रीत का भरम

रंग भरती बेरंग ना होने देती अपनी कलम
सुरमई रंग से आकाश रंगती देती मेरी कलम
कहानियों को जन्म दे रवानी देती बस कलम
 मासूम सपना अपना पूरा मेरा कर देती कलम
आराधना राय "अरु"

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

शब्दों के बाण