तुम्हें महसूस करना






साभार गुगल

तुम्हें हर पल महसूस करना
अपनी हथेलियों में भरना
चाँद के टुकड़े में भीगों कर
माथे पर सजा कर रखना

साथ तुम्हारें हर पल रहना
माना तुम हो मेरा गहना

सूरज को मान कर गहना
किरणों की ऊष्मा को पहना
तेरीआभा को लगा कर सीने
तुम्हें अपना कर साथ चलना

आराधना राय "अरु"

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

शब्दों के बाण