अच्छा होता


क्वार कार्तिक की
धुप में तपने से
अच्छा होता
जेठ की दुपहरी
सह लेते
वकावाली खाने
से अच्छा
नीम कसली
खा लेते
मृत्यु की ठंडक
सहने से
बेहतर
जीवन की
गर्मी सह
लेते

सघन वृक्ष
की छांव में
गुम हो रहने
से
धुप- छांव
सह लेते

आराधना राय

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

बता तूने क्या पाया मन