होली


बिरज में धूम मचायो कान्हा
रंग अबीर गुलाल उड़े रे ग्वाला
प्रीत बसी  बिरज कि गलियन 
सखी संग खेली होली सब बाला

होली में धूम मचायो रे कान्हा

 मारे हँस के रस कि पिचकारी
 सुन ली जी भर के मुख से गारी
 लाज़ अखियन में मधु सी धोले
 तीखी   बतियन कि लगे कटारी
 
होली में धूम मचायो रे कान्हा

राधा है गोरी कृष्णा भये काला
पी ली राधा संग मीरा ने हाला
नाचे नर -नारी नाम संग बिहारी
होली में गाये बजाए सब ही बाला

आराधना राय अरु





Comments

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

बता तूने क्या पाया मन