भोर




भोर ने आँखें अपनी खोली है
उनीदीं आँखों से देखती है वो
रेशमी पलकें उठती है उसकी
पल्ल्व पात बहक से उठते है
छेड़ कर वरुण- वायु जाती है
सुमन सी व्यार बह  जाती है
देख ये भोर रुपहली आती है
'अरु ' तुझे भी खूब बहकती है
आराधना राय 'अरु '

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

बता तूने क्या पाया मन