लोरी

नन्ही सी प्रीत भली री
चाँद भी आया दौड़े जी
नन्ही को गले से लगाया
और देर सी कहानी सुनाई
आराधना राय :अरु:

Comments

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

बता तूने क्या पाया मन