सदा रहेगा-------------------अतुकांत




साभार गुगल

 दुःख का सुख में
 साथ सदा रहेगा
 चोली- दामन सा
 यही रिश्ता रहेगा
अश्रु पी के अधरों पे
  मुस्कान रखेगा
  जिया सब के लिए
  इंसान वही बनेगा
  उम्र की आड़ी तिरछी
  लकीरों के पार कहेगा
  धूमिल होती कहानियों
   के बीच  कहानी कहेगा
   मौन बन  चुपचाप  इन
   आँखों से दुख बन झरेगा
   अंदर ना जाने कौन  फिर
   मर कर  तेरे रंग में जिएगा

  आराधना राय "अरु"





Comments

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

बता तूने क्या पाया मन