बातें करें

उन के दरों -दीवार की बातें करें
दिल से दिल मिलाने की बातें करें
---------------------------------------------
कल तलक रहे बिल्कुल बे- आवाज़
आज उन के दीदार की बातें करें
---------------------------------------------------
ज़मी चुप है,आसमां बड़ा खामोश
सख्त होते हालात की बातें करें
------------------------------------------------------
मातम का होता है बस इक बहाना
शब-ए -गम में क्या मौंत की बातें करें
-------------------------------------------------------
हर एक कोई होता नहीं है मेहरबान
बेरहम दुनियाँ की क्या बातें करें
--------------------------------------------------------
दुख से मिलकर दुख का बादल छँटता
माँ के आँचल के सकूँ की बातें करें
--------------------------------------------------------------
भूख से ऊंचा रहेगा सदा ही ईमान
बेबसी, भूख की क्या बातें करें
------------------------------------------------------------------
हम भी है कायल तेरे ए आसमान
अरु देश के बदहालात की क्या बातें करें
----------------------------------------------------------

आराधना राय "अरु"

Comments

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

शब्दों के बाण