,2 अक्टूबर विशेष महात्मा तुम सपूत भारत के थे ,शास्त्री तुम महात्मा बने थे

mahatma jise din  tum saput ho rashtre ki nishani bane the
us din rashtre pita khhalaye , sahtri ji dhore garibi main tume janm liya tha
tum ne bhi rashtre main nav -nirman kiya tha
mahak utthi thi bhrat ki bagiya tum zis satye se kaam kiyatha


2 अक्टूबर विशेष
महात्मा तुम सपूत भारत के थे ,
दुनियाँ ने बापू कह प्यार  से तुम्हे अपनाया था
सर्व सम्मति से तुम राष्ट्र कि निशानी बने थे
राष्ट्र के पिता तुम उस दिन बने थे जिस दिन
माता -खंडो में बंटी थी भारत -सपूत से तुम
राष्ट्र -पिता बने थे,
शास्त्री तुम महात्मा संग जन्म ले बड़े हुए थे
२ अक्टूबर को जन्म ले राष्ट्र सपूत सपूत ही
रह गए कही ,अडिग मगर सदा खड़े थे
मुश्किलों में सदा तुम निर्भय हो चले थे
भारत के प्रधान थे मंत्री ही बने थे  


Comments

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

बता तूने क्या पाया मन