माँ





साभार गुगल
सुख में सब साथ रहे है
दुख  तूने पहचाना है
माँ तेरी बातों को मैंने
माँ बन कर ही जाना है

नाप तोल के बोल रहे है
 सूना मन क्या जाना है
बोली प्रेम कि बोली उसने
करना प्रेम को ही जाना है


सारे संबंधो के ताने बाने है
तुझ   से मिलकर  जाने है
माँ तेरे आँचल में छिप कर
लगाती दुनियाँ दीवानी है

माँ तुझ को छोड़ कर कोई
जिंदगी के ना कोई माने है
तू रूठी तो मेरा मन ना लगे
तुझ से जुडे कितने फसाने है



आराधना राय "अरु"




Comments

  1. bilkul sahi likha hai ardhana ji , maa ke prem ko maa banne ke baad he jaana jaa sakata hai ,mera to manana hai ki ek aurat ka prem atulneeye he hota hai chahe vo maa ke roop mei ho , chahe vo ek bahan ke roop mei ho chahe vo ek premika ke roop mei ho aur in sab ke saath he ek patne ke roop mei to hota he hai jisme vo savitri ke roop me satyawan ke like yamraj ko bhe vivash kar deti hai , mai to is avasar par sampoorn stree jaati ko naman karna chahata hum chahe unke roop koi bhe kyun na ho.

    ReplyDelete
    Replies
    1. नमन आपको उदय जी ऐसी सोच भी आखिर किस की हो पाती है जैसी आप कि है
      ध्न्यवाद आपका

      Delete
  2. Replies
    1. धन्यवाद अरमान जी

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

शब्दों के बाण