मीत ---- गीत




साभार गुगल

बसे हो मेरी सांसो में तूम
धड़कन में छा जाते हो

बसे हो मेरी................................

तुम अपनी साँसों से
हर पल ही महकाते हो

बसे हो मेरी................................


लो बनकर जीती हूँ अबतक
तूम संग मेरे जल जाते हो

बसे हो मेरी................................

देख ली इस दिल की बैचेनी
मर कर इश्क़ को पाते हो

बसे हो मेरी................................

पास रहो या दूर रहो तुम
तुम मुझ में रह जाते हो

बसे हो मेरी................................

सपना बन कर आने वाले
आँसू बन क्यों आते हो

बसे हो मेरी.......

सुख दुःख के साथी हो मेरे
मीत मेरे अनुरागी हो

बसे हो मेरी.......





Comments

Popular posts from this blog

अतुकांत कविता

अश्रु

बता तूने क्या पाया मन