दिन- रैना




राह देखते नहीं थकती
बिरहन रैना
पंथ निहारते है मेरे
 सिहरते नैना
दिन कि लिखावट
करते थकते
सुन- सुन कर
हारे बैना
प्रीत कि बाती बिन
बुझे मन चैना
दुख छुपा है
सखी, का से कहे
पीड कोई होना
आराधना राय "अरु "




Comments

  1. दिल को छूते अहसास...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हदय से नमन कैलाश जी

      Delete
  2. आप कि आभारी हूँ यशोधरा अग्रवाल जी

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

याद

कोलाहल

ज़िन्दगी